Monthly Archives: August 2019

नकसीर या नाक से खून बहने (EPISTAXIS ) की आयुर्वेदिक चिकित्सा व घरेलू उपाय

नकसीर या नाक से खून बहने (EPISTAXIS ) की आयुर्वेदिक चिकित्सा व घरेलू उपाय  नाक से खून बहना “रक्तपित्त” का एक भेद है जिसमे नासिका गुहा में अनेको उपद्र्व्यो की उपस्थिति के कारण वह की त्वचा अत्यंत मृदु हो जाती है जिसके कारण नाक पर थोडा सा प्रेशर लगने से ही नाक से खून बहने […]

स्थोल्य / मोटापे के कारण व मोटापा वजन कम करने के आयुर्वेदिक उपाय ( motapa km krne ke ayurvedik upay in hindi )

मोटापा परिचय :- मोटापा वर्तमान समय की सबसे बड़ी समस्या के रूप में सामने आ रहा है जो की चिंता का विषय है | मोटापे को आयुर्वेद संहिताओ में स्थोल्य या मेदोरोग के नाम से जाना जाता है | वर्तमान समय में युवा पीढ़ी ही नही बल्कि बच्चे और बुजुर्ग  भी तली-भुनी व घर से […]

बालो को झड़ने से रोकने के आसन घरेलू आयुर्वेदिक उपाय ( Hair Grow AYURVEDA tips in hindi )

आवला :- 15 ग्राम आवले का चूर्ण , 5 ग्राम बहेड़ा , 25 ग्राम आम की गिरी , 5 ग्राम लोह भस्म को रात को पानी में भिगो के छोड़ दे सुबह इसका लेप 45 मिनट तक लगा कर रखे | आवला रीठा शिकाकाई तीनो को समान मात्रा में लेकर काढ़ा बना कर शिर धोने […]

यौनशक्ति बढ़ाने के 10 आसन आयुर्वेदिक उपाय 10 way to increase your sexual performance in hindi

यौनशक्ति बढ़ाने के 10 आसन आयुर्वेदिक उपाय अकरकरा मूल ३ ग्राम  अश्वगंधा मूल 2 ग्राम  व् गोखरू मूल 2 ग्राम मिश्री ३ ग्राम की मात्रा में मिलाकर सुबह शाम  शहद मिले दूध के साथ लगातार 15 दिन  सेवन करने से यौनशक्ति sexual performance in hindi बढने लगती है | यौनशक्ति (sexual performance in hindi )बढ़ाने […]

कब्ज के आसान घरेलू उपाय

कब्ज के अचूक 10 आसान घरेलू आयुर्वेदिक उपाय वर्तमान समय में हमारी जिस तरह की दिनचर्या हो गयी है वही कब्ज की उत्पत्ति का सबसे बड़ा कारण है | वर्तमान समय में लोगो का देर रात को खाना खाना और उसके बाद देर रात तक जागना कब्ज का सबसे बड़ा कारण है | वर्तमान समय […]

भूख बढ़ाने के आसान घरेलू उपाय ( bhukh bdhane ke aasan ghrelu upay in hindi )

वर्तमान समय में भूख न लगना या कम लगना आम समस्या बनती जा रही है | जिसका सबसे बड़ा कारण भी मनुष्य स्वम् ही है क्यूंकि भूख नही लगने का कारण हमारी तेरह प्रकार की अग्नियों( पंच महाभूताग्नि ,सप्त धात्वाग्नी एक और सबसे महत्वपूर्ण जठराग्नि ) में असाम्याव्स्था ही है और जिसके सबसे बड़े कारण […]

वाजीकरण शक्ति बढ़ाने के घरेलू नुस्खे

ब्रह्मदंडी स्वरस से गेहू के आटे को गूँथ कर बाटी बनाये , उसके बाद घी तथा मिश्री मिलकर सेवन करने से अतिशीघ्र वाजीकरण गुणों में वृद्धि होती है | भृंगराज स्वरस को 10 मिली की मात्रा में नित्य लेने से वाजीकरण शक्ति धीरे धीरे पुष्ट होने लगती है | मालकांगनी के बीज के चूर्ण को […]

अश्वशक्तिवर्धक योग – वाजीकरण शक्ति बढाने की उत्तम आयुर्वेदिक दवा

अश्वशक्तिवर्धक योग