Monthly Archives: May 2021

कोविड -19 इलाज में आयुष-64 कैप्सूल के फायदे

आयुष 64 Ayush 64

कोरोना के इलाज में सीसीआरएस द्वारा परीक्षित की गयी आयुर्वेद दवा जिसका परिणाम काफी उत्साहित करने वाला रहा है | आयुष-64 कैप्सूल का आयुष मंत्रालय , वैज्ञानिक एवं अनुसन्धान परिषद् और नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ आयुर्वेद जयपुर ने इस दवा की प्रभावकारिता और इसके सुरक्षित मूल्यांकन के लिए बहु केन्द्रीय नैदानिक परीक्षण यानि की क्लीनिकल ट्रायल […]

बृहत कस्तूरी भैरव रस के फायदे सेवन विधि और नुकसान

बृहत कस्तूरी भैरव रस के फायदे

परिचय कस्तूरी भैरव रस क्या होता है ? कस्तूरी भैरव रस का प्रयोग मुखत: ज्वर की पुनरावृति होने पर किया जाता है अर्थात जब रोगी व्यक्ति को बुखार अन्तराल के बाद आता हो जैसे 2 दिन के बाद 5 दिन के बाद 10 दिन के बाद ऐसे रोगी के लिए बृहत कस्तूरी भैरव रस एक […]

हीरक भस्म के फायदे और नुकसान

हीरक भस्म के फायदे

हीरक भस्म का कैंसर रोग में प्रयोग परिचयवज्र भस्म को हीरक भस्म या हीरा भस्म भी कहते हैं यह रस शास्त्र में वर्णित एक अति उत्तम आयुर्वेदिक औषधि है जिसका प्रयोग स्वर्ण भस्म के साथ करने पर कैंसर पक्षाघात (लकवा) के नर्वस सिस्टम से संबंधित रोगों का इलाज किया जाता है | इसके साथ ही […]

समीर पन्नग रस के फायदे, सेवन विधि और मात्रा

समीर पन्नग रस के फायदे

परिचय – समीर पन्नग रस क्या होता है ? समीर पन्नग रस श्वास वाहिनियो और फुफ्फुस कोषों के भीतर श्लेष्मिक कला पर सुजन न लाकर कफ का स्त्राव कराता है जिससे दोष निकल जाने पर फुफ्फुस व श्वासवाहिनियो को मजबूत बनाए में सहायक सिद्ध होता है | समीर पन्नग के फायदे मुख्यत: घबराहट, श्वास, कास, […]

फेफड़ो को मजबूत बनाने में श्वास कास चिंतामणि रस के फायदे

श्वास कास चिंतामणि रस के फायदे

क्या होता है श्वास कास चिंतामणि रस ? आयुर्वेद ग्रन्थ भैषज्य रत्नावली के हिक्का कास प्रकरण में श्वास कास चिंतामणि रस का विस्तार से वर्ण किया है जिसमे आचार्यो ने बताया है की इसके सेवन से फेफड़ो में इकट्ठे हुए कफ को खत्म करके श्वास व दमा से होने वाले कष्टों से मनुष्य की रक्षा […]

महालक्ष्मी विलास रस के घटक द्रव फायदे और नुकसान

महालक्ष्मी विलास रस के फायदे

परिचय – महालक्ष्मी विलास रस आयुर्वेद ग्रंथो में महालक्ष्मी विलास रस को एक ऐसी औषधि माना गया है जिसके सेवन से जिस प्रकार सुखा हुआ पुराना वृक्ष पानी डालने के बाद वापस से हरा-भरा हो जाता है वैसे ही जीर्ण फुफ्फुस रोगों में इसके सेवन से व्यक्ति के स्वास्थ्य में शीघ्र लाभ होता है | […]

त्रैलोक्य चिंतामणि रस के फायदे, घटक द्रव्य

त्रैलोक्य चिंतामणि रस के फायदे

परिचय त्रैलोक्य चिंतामणि रस विभिन्न प्रकार के रोगों का शमन करने के लिए आयुर्वेद की बहुत श्रेष्ठ औषधि है | इसकी प्रकृति उष्ण होती है रस कटु होने से पित्त प्रकृति वाले व्यक्तियों को इसका सेवन करने से पित्त बढ़ जाता है इस हेतु इसका सेवन नही करना चाहिए | विभिन्न रोगों में अलग-अलग अनुपनो […]