अंगूर बीज के फायदे ( Grapes seeds benefits in hindi )

अंगूर बीज के फायदे

परिचय :- अंगूर एक लता ( बेल ) के रूप में अपने आकार का विस्तार करती है अंगूर जैसे बहुउद्देशीय फल से लगभग सभी लोग अच्छे से परिचित है किन्तु स्वास्थ्य के परिपेक्ष्य में इसकी वास्तविक पृष्ठभूमि से कम ही लोग परिचित होंगे |अंगूर सभी लोगो के लिए गृहण किया जाने वाला फल है |

सभी प्रकार की पृकृति के लोग इसका सेवन कर सकते है | अंगूर की लता को एक बार लगाने के बाद कई वर्षो तक यह फल देती है | अंगूर का वानस्पतिक नाम vitis vinifera Linn ( वाईटिस वाईनिफेरा ) है | इसको भाषा व् जगहों के आधार पर अलग अलग नामो से जाना जाता है जैसे – द्राक्षा , मधुरसा , गोस्तनी , दराख , कोट्ट्न , मुनक्का आदि |प्राचीन आयुर्वेद ग्रंथो में अंगूर माँ वर्णन मृदिका और द्राक्षा के नाम से मिलता है |आज हम इस लेख में चर्चा करेंगे अंगूर के बीजो के फायदे स्वास्थ्य के लिए किस प्रकार फायदेमंद है |

भारत में उत्तराखंड , हिमाचल प्रदेश , जम्मू , महाराष्ट्र आदि में अंगूर की खेती की जाती है |

अंगूर के बीज क्यों है फायदेमंद ( Grapes seeds benefits in hindi )

 अंगूर में बीजो (फल) में विटामिन-सी  भरपूर मात्रा में पाया जाता हा जी हमारी रोग प्रतिरोधकता को बनाये रखने में अहम भूमिका निभाता है | आक्जेलिक अम्ल , साइट्रिक अम्ल , टार्टेरिक अम्ल , मैलिक अम्ल , बीटा सिटोस्टेरोल , एल्फा – टर्पीनिओल , पोमिटिक , लिनालूल, स्टेयरिक , बायोटिन , सोडियम , फाइबर , थाईमिन , मैग्नीशियम , जेरानिओल , प्रोटीन , ओलिक , आयरन आदि प्रचुरता से पाए जाते है | 

अंगूर के बीजो के फायदे (Grapes seeds benefits in hindi )

अंगूर के बीजो की प्रकृति शीतल होने से यह शरीर में बढ़ी हुई उष्णता को शांत करने में अपना प्रभाव दिखाता है |अंगूर के बीजो की प्रकृति स्वेदल (पसीने लाने वाला ) होने से यह हमारी स्किन में जमे हुए टोक्सिंस को पसीने के साथ बहार निकालने में मददगार साबित होता है | जिससे स्किन चमकदार बनती है |

अंगूर में बीजो की प्रकृति कषाय होने से ये हमारे शरीर के अन्दर छुपे टोक्सिन को बहार निकालने का काम करता है |

अंगूर के बीजो से घर पर बनाये  बेहतरीन मल्टी-विटामिन ( grapes seeds multivitamin in hindi  )

अंगूर के बीज 500 मिलीग्राम , गाजर के बीज 500 मिलीग्राम , सहन्जन के पत्ते का पाउडर 1 ग्राम , चुकुन्दर का पाउडर 1 ग्राम , अश्वगंधा पाउडर 1 ग्राम सभी को मिलाकर रोज सुबह एक चम्मच पाउडर को गुनगुने पानी में घोलकर सेवन करने से वीर्यवर्धक , रक्तवर्धक , शीतल , क्षुधावर्धक अर्थात भूख बढ़ाने वाला , नेत्र ज्योति वर्द्धक , केशवर्धक आदि फायदे मिलते है |

यदि आपको हमारा यह लेख पसंद आया हो तो शेयर करना ना भूले |

धन्यवाद !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *