आकाशबेल / अमरबेल परिचय लाभ व उपयोग विधि

अमरबेल के फायदे

परिचय :- अमरबेल हल्के पीले रंग की एक बेल होती है जो एक परजीवी है | अमरबेल अन्य पेड़-पोधो के ऊपर छाई हुई आसानी से उपलब्ध हो जाती है इसीलिए इसे आकाशबेल के नाम से भी जाना जाता है | इसकी बेल से नये नये सूत्ररुपी रोम निकलते रहते है जो स्वम् तो अपनी ग्रोथ आसानी से करते रहते है किन्तु जिस किसी भी पोधे के ऊपर अपना विस्तार करती है उसके सभी आवश्यक पोषक तत्वों को चूस-चूस कर उस पोधे को बिल्कुल खत्म ही कर देती है | जिससे कुछ समय के बाद वह पोधा अपने पोषक तत्वों की कमी के कारण स्वत: ही नष्ट होने लग जाता है |

अमरबेल के इन सब गुणों को देख कर आसानी से अनुमान लगाया जा सकता है की अमरबेल कितनी शक्तिशाली , स्वपोषित , व गुणकारी होती है | “अमरबेल जिस तरह से दुसरे पेड़ पोधो से उनकी जीवनीशक्ति छीन लेती है , ठीक उसी तरह से इसके उपयोग करने से रोगी के रोगों को भी आसानी से नष्ट कर देती है जिसके परिणाम की महत्वाकांक्षा का अनुमान अमरबेल के जीवनचक्र को देखने  के बाद आसानी से चल जाता है ”

आकाशबेल के फायदे

आम के पेड़ पर जो बेल अपना जीवनचक्र प्रारम्भ करके फलती-फूलती है वो अमरबेल के नाम से जानी पहचानी जाती है  |

जबकि और बाकि सभी पेड़ पोधो पर जो बेल फलती फूलती है उसे आकाशबेल के नाम से शास्त्रों में वर्णित किया गया है | 

रासायनिक संघटन

अमरबेल के मूल में डल्सिटोल व कस्कुटिन नामक द्रव्य उपस्थित रहता है |

अमरबेल के फल में मेनिटोल ,सिरिसेटिन तथा बीटा सीटोस्टेरोल  उपस्थित रहता है |

इसके बीजो में कस्कुटिन , लिनोलिक की उपलब्धता बालो के दुबारा पुनर्जन्म करने में मदद करता है |

  अमरबेल के फायदे

गंजेपन में अमरबेल के फायदे

एक भाग अमरबेल का कल्क (चटनी) को दो भाग सरसों का तेल लेकर  किसी पात्र में डालकर  तब तक पकाये जब तक की अमरबेल का अंस पूरी तरह से काला पड जाये | उसके बाद स्वत: ठण्डा हो जाने के बाद कांच की बोतलों में भर कर रख ले और रोज रात को 10 मिनट तक सिर में अच्छे से मालिश करे | कुछ ही दिनों में आपके बाल झड़ते हुए रुक कर नये बाल आसानी से दिखाई देने लग जायेंगे |

10 ग्राम अमरबेल को 100 ग्राम पानी में डालकर चौथाई रहने तक मन्दाग्नि पर उबाले , ठंडा होने के बाद इस काढ़े से बालो को धोने से बाल सुन्दर , चमकदार रुसी रहित होकर बालो का झड़ना रुक जाता है |

पेट सम्बंधी रोगों में अमरबेल के फायदे

अमरबेल का काढ़ा बना कर पेट पर पुल्टिस ( सेक ) करने से उलटी, बैचेनी व पेट दर्द में शीघ्र राहत मिलती है |

अमरबेल का रस 1 भाग , मिश्री 2 भाग लेकर धीरे-धीरे धीमी आंच पर अच्छे से उबाले , जब रस आधा रह जाये तब छानकर किसी बर्तन में भर कर रख ले |

सुबह शाम 2-3 मिली की मात्रा में समान भाग पानी मिलाकर पीने से पेट दर्द व पेट में वायु का गोला बनने में आराम मिलता है |

गठिया के दर्द में अमरबेल के फायदे

अमरबेल के छोटे छोटे टुकड़े करके उसे चार गुना पानी में अच्छे से उबाले | इस उबले हुए क्वाथ को गठिया से पीड़ित दर्द वाले हिस्से पर गर्म गर्म लेप लगाने से गठिया के दर्द व सूजन में जल्द ही आराम मिल जाता है |

जोड़ो के दर्द में अमरबेल के फायदे

10 ग्राम अमरबेल के काढ़े को पीने से गठिया जन्य जोड़ो के दर्द ( संधिशूल ) तथा सुजन में शीघ्र ही लाभ मिल जाता है |

पाइल्स ( अर्श ) में अमरबेल के फायदे

10 मिली ताज़ा अमरबेल के रस में 5 ग्राम कालीमिर्च व् 3 ग्राम नागकेशर को अच्छी तरह से खरल में मिलाकर रोज सुबह नित्य सेवन करने से सभी प्रकार के अर्श रोगों में लाभ मिलता है |

लीवर सम्बन्धी रोगों में अमरबेल के फायदे

रोज सुबह  5 मिली  अमरबेल के रस को कुछ दिनों तक पीने से  लीवर से सम्बंधी रोग व्  कब्ज में आराम मिलता है |

किडनी सम्बंधी रोगों में अमरबेल के फायदे

आकाशबेल की पूरी बेल के काढ़े का उपयोग मूत्र की मात्रा व उत्सर्जन को बढ़ा कर गुर्दों का शोधन हो जाने से गुर्दे सम्बन्धी रोगों से राहत मिलती है | यह काढ़ा किडनी स्टोन ( पथरी )  में भी राहत प्रदान करता है |

घाव ( जीर्णव्रण ) चिकित्सा में अमरबेल के फायदे

अमरबेल , भृंगराज , व अपामार्ग के पत्तो की चटनी बनाकर पुराने घाव पर लेप करने मात्र से ही शीघ्र घाव भरने लगता है | इसका परिणाम पहले ही दिन से हमने हमारे रोगियों पर देखा है |

रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में अमरबेल के फायदे

अमरबेल में उच्च स्तर का एंटी-ओक्सिडेंट पाया जाता है जो हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने व बनाये रखने में बहुत बड़ी भूमिका निभाता है |

आँखों के लिए अमरबेल के फायदे

मोतियाबिंद जैसे भयंकर नेत्ररोगो में भी अमरबेल का उपयोग लाभकारी साबित होता है | कम हुई आँखों की रोशनी को फिर से सामान्यवस्था मे लाने के लिए अमरबेल का उपयोग किसी योग्य आयुर्वेद चिकित्सक की देखरेख में अत्यंत लाभकारी साबित होता है |

 कुछ समय के नियमित उपयोग के बाद आपके चश्मे के नंबर धीरे धीरे कम होने लग जायेंगे | साथ ही चिकित्सकीय देखरेख में किसी भी प्रकार का दुष्प्रभाव नही होता है |

मधुमेह में अमरबेल के फायदे

मधुमेह रोगी को अमरबेल का चिकित्सकीय देखरेख में नियमित सेवन लाभकारी रहता है |

 मधुमेह रोग को नियंत्रित करने में अमरबेल का सेवन अत्यंत लाभकारी साबित हुआ है | अमरबेल का सेवन वसा को नियंत्रित करने व ग्लाइकोजन का स्तर बढाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है |

यदि आपको लेख पसंद आया हो तो शेयर अवश्य करे |

धन्यवाद !

One thought on “आकाशबेल / अमरबेल परिचय लाभ व उपयोग विधि

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *