Category Archives: BNYS PREVIOUS YEAR PAPER

आयुर्वेदाचार्य द्वितीय व्यावसायिक मुख्य/प्रयास परीक्षा (बैचलर ऑफ़ आयुर्वेद मेडीसन एंड सर्जरी ) BAMS PREVIOUS YEAR QUESTION PAPER

BAMS PREVIOUS YEAR PAPER

BAMS PREVIOUS YEAR QUESTION PAPER  मुख्य / तृतीय प्रयास 2010 दिसम्बर विषय A-204: अगद्तन्त्र व्यवहार आयुर्वेद एवं विधि वैधक भाग-क    पूर्णांक – 100 अतिलघुत्तरात्मक प्रश्न -BAMS PREVIOUS YEAR QUESTION PAPER निम्न सभी प्रश्नों के उत्तर अधिक से अधिक 20 शब्दों में दीजिये, प्रत्येक प्रश्न के लिए 2 अंक निर्धारित है | Answer should not be […]

आयुर्वेदाचार्य द्वितीय व्यावसायिक मुख्य/प्रयास परीक्षा (बैचलर ऑफ़ आयुर्वेद मेडीसन एंड सर्जरी )BAMS PREVIOUS YEAR PAPER 2017

BAMS PREVIOUS YEAR PAPER

मुख्य / तृतीय प्रयास 2017 विषय A-202: अगद्तन्त्र व्यवहार आयुर्वेद एवं विधि वैधक नोट : सभी प्रश्न करना अनिवार्य है | BAMS PREVIOUS YEAR PAPER अतिलघुत्तरात्मक प्रश्न BAMS PREVIOUS YEAR PAPER प्र.सं.1 से 15 तक के प्रश्नों के उत्तर अधिक से अधिक 20 शब्दों में दीजिये, प्रत्येक प्रश्न के 2 अंक निर्धारित है | Q.No. […]

बड़ी दुधि या नागार्जुनी का परिचय फायदे व नुकसान

परिचय दुधि दो प्रकार की होती है जिसमे से छोटी दुधि का उल्लेख हम पिछले आर्टिकल में कर चुके है आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से बतायेंगे की बड़ी दुधि पौरुष शक्ति बढ़ाने के साथ-साथ अनेको रोगों में फायदेमंद साबित होती है | छोटी दुधि की भांति बड़ी दुधि भी आमतौर पर बिना उगाये […]

चित्त क्या है – योगस्य चित्तंवृत्ति निरोध: चित्त का सम्पूर्ण विवेचन

चित्त का विवेचन

चित्त की परिभाषा महर्षि पातंजली द्वारा पतंजली योग दर्शन के दुसरे अध्याय के तीसरे सूत्र में योग की परिभाषा को एक सूत्र में समझाने का बहुत ही सरल प्रयास किया गया है | योगस्य योग्श्च चित्तंवृत्ति निरोध: अर्थात चित्त की वृतियो का निरोध ही योग है | अर्थात योग साधना के द्वारा मन की बहिर्मुखी […]

कालमेघ का परिचय फायदे व नुकसान

कालमेघ के फायदे

परिचय कालमेघ का पौधा सभी जगहों पर बड़ी आसानी से उग जाता है | किन्तु इसकी बहुमूल्य उपयोगिता से अनजान होने के कारण अधिकतर लोग इसे पहचान नही पाते है | केवल पादप रोग विशेषज्ञ व् आयुर्वेदाचार्य ही इसे पहचान कर इसके फायदों से लोगो को रोग मुक्त करने में इसका उपयोग करते है | […]

नेति क्रिया क्या है ? नेति के भेद व फायदे

नेति क्रिया

परिचय नेति संस्कृत शब्द है जिसका शाब्दिक अर्थ यह नही या अंत नही होता है | नेति वाक्य उपनिषदों में अनंतता को दर्शाने के लिए उपयोग में आता हुआ दृष्टिगोचर होता है | तत्वमस्या दिवाक्येंन स्वात्मा ही प्रतिपादित | नेति नेति त्रुतिर्ब्रुयाद अनृतं पंचभौतिकम || 1.25|| अर्थात् तत्वमसि वाक्य से अपन आत्मा का बोध किया […]

धौति क्रिया का सम्पूर्ण विवेचन/जानकारी फायदे व नुकसान सावधानी

धौति के फायदे

धौति क्रिया क्या है ? धौति क्रिया का अर्थ धौति का अर्थ है धोना या सफाई करना और क्रिया का अर्थ है कर्म को करना | यह षट्कर्म की एक महत्वपूर्ण क्रिया है | इन्सान अपने बहारी शारीर की सफाई तो रोज करता है लेकिन जो सफाई बहुत जरूरी होती है उसे कर ही नही […]

कपालभाती

हठयोग प्रदीपिका के अनुसार कपालभाती को षट्कर्म की छ:क्रियाओ में सम्मिलित किया गया है,जिनके माध्यम से शरीर के अंदर जमा विजातीय द्रव्यों को बहार निकाला जाता है |कपालभाती के सम्बन्ध में अनेको लोग प्रचार करते है की कपालभाती  प्राणायाम है | जबकि सच तो यह है कि कपालभाती  शरीर  शोधन(शुद्धि) की षट्कर्म की एक महत्वपूर्ण […]