Tag Archives: चित्त की वृत्तियाँ

चित्त क्या है – योगस्य चित्तंवृत्ति निरोध: चित्त का सम्पूर्ण विवेचन

चित्त का विवेचन

चित्त की परिभाषा महर्षि पातंजली द्वारा पतंजली योग दर्शन के दुसरे अध्याय के तीसरे सूत्र में योग की परिभाषा को एक सूत्र में समझाने का बहुत ही सरल प्रयास किया गया है | योगस्य योग्श्च चित्तंवृत्ति निरोध: अर्थात चित्त की वृतियो का निरोध ही योग है | अर्थात योग साधना के द्वारा मन की बहिर्मुखी […]