महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने के घरेलू उपाय (How to increase female libido in hindi)

कामेच्छा शक्ति

वर्तमान समय में आधुनिक जीवनशैली व तनावयुक्त दिनचर्या के चलते पुरुष ही नही बल्कि महिलाओं में भी कामेच्छा शक्ति (increase female libido in hindi )बहुत अधिक घटते हुए देखी जा सकती है |

कामेच्छा शक्ति

वैसे भी महिलाओ में हार्मोनल असामान्यता वर्तमान समय की सबसे बड़ी समस्या हो चुकी है तकरीबन 5 में से 3 महिलाओ को मासिकधर्म से संबंधित समस्या आसानी से मिल जाती है उसी का दुष्परिणाम है की महिलाओ में कामेच्छा शक्ति का हास होने से उनकी सम्भोग के प्रति उदासीनता बनी रहती है | इस उदासीनता का असर आपके रिस्तो पर भी धीरे धीरे दिखाई देने लगता है | कुछ महिलाओ में योनिव्यापद अर्थात योनी सम्बंधित रोगों के होने से भी सम्भोग के समय दर्द या सूखापन होने से उनकी सेक्स के प्रति उदासीनता रहती है |

स्त्रीयों में कामेच्छा शक्ति कम होने के कारण  

  कामेच्छा शक्ति बढ़ाने (increase female libido in hindi) के लिए सबसे पहले सेक्स के प्रति उत्पन्न हुई उदासीनता के कारणों के बारे में जानना जरूरी हो जाता है | क्योकि किसी भी शारीरिक व मानसिक समस्या के समाधान के लिए उसके कारणों को जानना अत्यंत आवश्यक होता है | जब तक आप कारणों को नही जानोगे तब तक समस्या का समाधान भी भलीभांति नही कर पाओगे |

वैवाहिक रिश्तों का महिलाओ की कामेच्छा शक्ति पर दुष्प्रभाव

आपके वैवाहिक रिश्तों में तालमेल का महिलाओ की कामेच्छा या सम्भोग इच्छा पर सीधा प्रभाव दिखाई दे जाता है | यदि आपका जीवनसाथी का किसी अन्य महिला के साथ रिलेशन में है और आपको इस बात के बारे में कही से जानकारी मिल गयी है तो इस बात का सीधा असर आपके सेक्सुअल लाइफ पर निश्चित रूप से पड़ेगा |

पारिवारिक माहौल का महिलाओ की कामेच्छा शक्ति पर प्रभाव

अधिकतर महिलाओ की सेक्स के प्रति कामेच्छा शक्ति बढ़ाने (increase female libido in hindi) की आवश्यकता ही नही रहती है किन्तु पारिवारिक माहौल यदि ठीक नही रहता है तो ऐसी महिलाओ की कामेच्छा शक्ति (increase female libido in hindi) धीरे धीरे कम होने लगती है | ऐसी स्थिति लम्बे समय तक रहने पर इसका प्रभाव उसके पति के साथ भी बिगड़ने लगते है | और ऐसी स्थिति में महिलाएं उत्तेजित पदार्थो का सेवन करने लगती हियो जो की उनके स्वास्थ्य के लिए काफी हानिकारक साबित होते है |

हार्मोनल असंतुलन का महिलाओ की सेक्स वासना पर प्रभाव

किसी महिला को यदि मासिकधर्म से सम्बंधित समस्या लम्बे समय तक बनी रहती है जिसका की उचित समय पर उचित इलाज नही करवाने के कारण उनका स्वभाव में चिडचिडापन आ जाता है | इस चिडचिडापन का सीधा सम्बन्ध उनकी सेक्स वासना पर दिखाई देता है | हार्मोनल असंतुलन होने से उनके सेक्सुअल अंगो पर सम्भोग के समय भी रक्तसंचार नही बढ़ता है जिससे उनकी सेक्स के प्रति उदासीनता बनी रहती है |

यहाँ पढ़ेकामदेव रस के फायदे

महिलाओ की कामेच्छा शक्ति बढ़ाने के घरेलू उपाय (Home Remedies to Increase Female Libido in Hindi )

हमारे शरीर में किसी भी प्रकार की उत्पन्न हुई समस्या का समाधान यदि हम चाहे तो आसान घरेलू उपायों के माध्यम से कर सकते है | आज इस लेख में हम चर्चा करेंगे महिलाओ की कामेच्छा शक्ति बढ़ाने के घरेलू नुस्खो के बारे में |

  • कामेच्छा शक्ति बढ़ाने के लिए सबसे पहले कारणों को जानकर उनका समाधान करना अत्यंत आवश्यक है |
  • सबसे पहले मानसिक तनाव को कम करे | मानसिक तनाव को कम करने के लिए शिरोधारा, योग , ध्यान आदि का सहारा ले सकते है | शिरोधारा जहा कही भी करवाओ वहां का स्टाफ शिरोधारा के बारे में अच्छे से प्रशिक्षित होना चाहिए तब ही आपको शिरोधारा का वास्तविक लाभ मिल पायेगा |
  • विटामिन सी का खूब अपने भोजन में शामिल करे | विटामिन सी हमारे शरीर में रक्त संचार को सुचारू बनाये रखता है जो की पुरुषो और महिलाओ की कामेच्छा शक्ति को बढ़ाने में अत्यंत फायदेमंद साबित होता है |
  • कामेच्छा शक्ति बढ़ाने के लिए कच्चे गेंहू का सेवन अत्यंत लाभदायक साबित हो सकता है क्योकि अच्छे गेंहू के दानो में विटामिन इ व अनेको खनिज पदार्थो की उपस्थिति रहती है |
  • अंडे का सेवन महिलाओ की कामेच्छा शक्ति बढ़ाने में अत्यंत लाभदायक साबित होता है | अंडे की प्रकृति उष्ण होने से यह कामोद्दीपक शक्ति को बढ़ा ने में सक्षम होता है |
  • पुरुषो व महिलाओं की सेक्स पॉवर बढ़ाने के लिए कच्ची सब्जियों का सेवन अधिक से अधिक करना फायदेमन्द साबित होता है क्योकि अच्छी सब्जियों में सभी प्रकार के विटामिन्स , खनिज लवण आदि भरपूर मात्रा में विधमान रहते है और कामेच्छा शक्ति बढ़ाने के लिए शरीर में एनर्जी का होना अत्यंत आवश्यक है |
  • महिलाओं में एनर्जी बढ़ाने के लिए निम्न फल व सब्जियों का सेवन अधिक से अधिक करने से महिलाओ की एनर्जी बढ़ जाती है – केशर वाला दूध, तरबूज, सभी प्रकार की बैरी, अंजीर, अनार, सेब, ब्रोंकली, चुकुन्दर, गाजर, खीरा, ककड़ी, मीठे आलू, आदि का खूब सेवन करे |
  • लहसून :- जब बात रक्तसंचार को सुचारू करने की आती है तो सबसे पहले घरेलू उपायों में लहसून ही याद आता है | जिसका सीधा सा संबंध खून के संचार को बढ़ाने से होता है | जब भी आप अपने पार्टनर के साथ होते हो बेड पर जाने से 45 मिनट पहले लहसून की 2-4 कलियों का सेवन करले आपकी बॉडी में ब्लड सर्कुलेशन भलीभांति होने से आप अपनी वैह्वाहिक जिन्दगी का भरपूर आनंद ले सकते हो |  

महिलाओं में कामेच्छा शक्ति बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक दवाई (Ayurvedik medicine for Increase Female Libido power in Hindi )

  • शतावरी :- शतावरी का सेवन महिलाओ के सम्पूर्ण स्वास्थ्य के लिए ही फायदेमंद रहता है | शतावरी का प्रयोग महिलाओ में बांझपन को कम करने के लिए अन्य आयुर्वेद औषधियों के साथ अत्यंत लाभकारी होता है | शतावरी में पाए जाने वाला फायटोएस्ट्रोजन में हार्मोन्स को संतुलित करने का शक्तिशाली गुण पाए जाते है जो की सेक्स की इच्छा को बढ़ाने में उपयोगी साबित होता है |
  • अश्वगंधा :- पुरुष और महिलाओ की कामेच्छा शक्ति को बढ़ाने में अश्वगंधा का महत्वपूर्ण कार्य होता है अश्वगंधा तनाव को कम करने में सक्षम होता है | साथ ही तंत्रिकातन्त्र को मजबूती प्रदान करता है जिससे सेक्स के समय सेक्सुअल अंगो के आसपास रक्त का संचार बढ़ जाता है और जिससे अपने जीवनसाथी के प्रति स्वभाविक निकटता आने लगती है |
  • गोखरू :- गोखरू की प्रकृति शीतल होने से यह स्तम्भन शक्ति को बनाये रखने में अपना सकारात्मक प्रभाव देता है |
  • अशोक की छाल :- अशोक की छाल का प्रभाव क्षारीय होने से योनी से होने वाले सभी प्रकार के श्राव को रोकने में मददगार होता है | जो की सम्भोग के समय की उत्तेजना बढ़ाने में इसका प्रयोग फायदेमंद साबित होता है |
  • स्त्रियों की कामशक्ति बढ़ाने में प्रमुख उपयोगी आयुर्वेदिक दवाईयों :- अशोकारिष्ट, सारस्वतारिष्ट, सौभाग्य शुण्ठी घृत, चंद्रप्रभा वटी, शिवागुटीका , कामिनी विद्रावण रस, कामदेव रस, आदि का उपयोग अत्यंत लाभकारी साबित होता है |

विशेष:- किसी भी आयुर्वेदिक ओषधि का सेवन करने से पहले आपके नजदीकी आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श जरूर कर ले | यहा पढ़ेकामदेव चूर्ण बनाने की विधि

कामेच्छा शक्ति बढ़ाने में लिए योग (Yoga for Increase Libido Power In Hindi)

  • सर्वांगासन
  • बालासन
  • उत्थानपादासन
  • सेतुबंधासन
  • गरुडासन
  • अधोमुखासन
  • कोणासन
  • मूलबंध
  • योनी मुद्रा
  • ध्यान

आदि का अभ्यास प्रशिक्षित योग ट्रेनर की देखरेख में करने से अधिक लाभ मिलता है |

यदि आपको हमारा यह लेख पसंद आया हो तो कृपया कमेन्ट करके हमे अवगत जरूर करवाए |

धन्यवाद !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *