कामिनी विद्रावण रस के फायदे – शीघ्रपतन की रामबाण आयुर्वेदिक औषधि

कामिनी विद्रावण रस

जाने कामिनी विद्रावण रस के फायदे व नुकसान

कामिनी विद्रावण रस (kamini vidravan ras hindi) जैसा की नाम से ही प्रतीत हो जाता है की कामवासना के शौकीन पुरुषों व स्त्रियों की पसंदीदा आयुर्वेद औषधि है | किन्तु जिन पुरुषो में शुक्राणुओं की कमी और कमजोर शुक्राणुओं की उपस्तिथि के कारण वो सम्भोग का आनंद नही ले पाते है, और ना ही अपने जीवनसाथी को आनंदित कर पाते है |

कामिनी विद्रावण रस

साथ ही शीघ्रपतन की समस्या के चलते वो अपने जीवनसाथी को भी वैवाहिक जीवन का सम्पूर्ण सुख नही दे पाते है और ऐसे में वो अपने आपमें शर्मिंदगी महसूस करते है ऐसे लोगो के लिए कामिनी विद्रावण रस kamini vidravan ras in hindi शीघ्रपतन में रामबाण औषधि का काम करता है |

घटक द्रव्य (Ingredients in kamini vidravn ras in Hindi )

आकारकरभं शुण्ठी लवंगं कुंकुंमं कणाम | जातिफल जातिकोषम चंदनं कार्षिकं पृथक् ||

हिंगुलं गंधकं शाणम फणीफेनं पलोंन्मितं | गुन्जात्र्यमिताम कुर्यात सम्मर्ध वटिकाम भिषक || (भैषज्य रत्नावली )

  • अकरकरा
  • सोंठ
  • लोंग
  • केशर
  • पिप्पली
  • जायफल
  • जावित्री
  • सफेद चन्दन
  • शुद्ध हिंगुल
  • गंधक शुद्ध
  • शुद्ध अफीम

कामिनी विद्रावण रस बनाने की विधि kamini vidravan ras bnane ki vidhi

 सबसे पहले अकरकरा, सोंठ, लोंग, केशर, पिप्पली, जायफल, जावित्री, सफेद चन्दन,आदि सभी को लेकर चूर्ण बना ले | शुद्ध की हुई गंधक और हिंगुल को लेकर शुद्ध की हुई अफीम के साथ अच्छे से घोंट्ले | इन तीनो द्रव्यों को तब तक घोंटे तब तक की इनका रंग कज्जली के जैसा ना दिखने लगे | कज्जली के समान दिखने पर सभी चूर्णों के मिश्रण को इनमे मिला ले | उपरोक्त मिलाये हुए सभी मिश्रण में पान के रस के साथ मर्दन करके 125-125 मिग्रा की गोलिया बनाले | इन गोलियों को केवल कांच की बोतल में ही रखना है |

कामिनी विद्रावण रस के फायदे (kamini vidravan ras benefits in hindi)

पयसा परीपितोय्म शुक्रस्तस्भकरो रस: | विद्रावण: कामिनीनाम वशीकरण एवं च ||

अर्थात कामिनी विद्रावण रस (kamini vidravan ras hindi) की 1-2 गोलिया दूध के साथ सेवन करने से वीर्य की स्तम्भन शक्ति बढती है | इसका सेवन करने वाला पुरुष सम्भोग की इच्छा रखने वाली स्त्री को खुश करके अपने वश में कर लेता है |

कामिनी विद्रावण रस के फायदे की बात करे तो यह वीर्य के पतलेपन को खत्म करके वीर्य को गाढ़ा बना कर पुरुष को वीर्यवान बना देता है |

शीघ्रपतन में कामिनी विद्रावण रस के फायदे – इसके सेवन करने से युवावस्था में की गयी गलतियों की वजह से होने वाले शीघ्रपतन को खत्म करने में अत्यंत फायदेमंद साबित होता है |

शुक्राणुओं की कमी में कामिनी विद्रावण रस के फायदे

  • जिन पुरुषो में शुक्राणुओं की कमी हो जाती है उनके लिए kamini vidravan ras के सेवन से पुन: शुक्राणुओ का निर्माण होने लगता है और शुक्राणुओं की संख्या बढने से वह स्त्री को संतानोत्पत्ति के लिए काबिल हो जाता है |
  • तंत्रिका तन्त्र की कमजोरी में kamini vidravan ras के फायदे – एस औषधि का प्रभाव तंत्रिका तन्त्र पर होने से यह तंत्रिका तन्त्र की कमजोरी को खत्म करने में फायदे मंद है |
  • धातु दौर्बल्यता में कामिनी विद्रावण रस के फायदे – धातु को पुष्ट करने के लिए इसका सेवन करना अत्यंत लाभदायक सिद्ध होता है |
  • पुरुष एनर्जी बढ़ाने में लाभदायक – जिन लोगो के शरीर में एनर्जी की कमी हो जाती है उनके लिए पुरुष एनर्जी बढ़ाने में कामिनी विद्रावण रस फायदेमंद है |

सम्भोग शुन्यता में कामिनी विद्रावण रस के फायदे

जिन लोगो में सम्भोग शुन्यता अर्थात वाजीकरण शक्ति खत्म सी हो गयी हो उनकी वाजीकरण शक्ति की दुबारा पुनर्जीवित करने के लिए kamini vidravan ras फायदेमंद है | इसका सेवन चिकित्सक की देखरेख में करने पर यह पेनिस में तनाव को ठीक करने में भी लाभदायक सिद्ध हो सकता

यहाँ पढ़े – पेनिस में तनाव की दवा आयुर्वेदिक

कामिनी विद्रावण रस के नुकसान (Side-effects of kamini vidravan ras in Hindi )

वैसे सामान्यत: 

  • kamini vidravan ras
  • के सेवन से नुकसान नही होते है किन्तु चिकित्सक की देखरेख में सेवन करने से किसी भी प्रकार के सेवन से बचा जा सकता है |
  • kamini vidravan ras
  • का सेवन बिना चिकित्सक के परामर्श के नही करना चाहिए क्योकि इसमे अफीम की उपस्थिति होने से इसकी लत लगने की सम्भावना बन सकती है |

    इसलिए चिकित्सक की देखरेख में व् चिकित्सक द्वारा निर्धारित की गयी मात्रा में ही सेवन करना किसी भी प्रकार के होने वाले नुकसान से बचने में सक्षम है |

    विशेष :-

    किसी भी आयुर्वेदिक रसोषधि के सेवन से पहले आयुर्वेद चिकित्सक से परामर्श अवश्य करे |

    यदि आपको हमारा यह लेख पसंद आया होतो कृपया शेयर करे और कमेन्ट के माध्यम से हमे भी अवगत करवाए |

    धन्यवाद !

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *