कामदेव रस (ओजवर्द्धक वटी ) – वाजीकरण व रसायन वटी

कामदेव रस के फायदे


कामदेव रस का नाम आते ही कामदेव की वाजीकरण शक्ति का आभास हो जाता है | कामदेव रस सभी धातुओ को पोषित करके रसायन व्का वाजीकरण शक्ति को दीर्घकाल के लिए बढ़ाने में सक्षम होता है | कामदेव रस का सेवन 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी युवक व युवतियाँ  कर सकती है 18 वर्ष के बाद महिला व् पुरुषो में यौवनकाल का असर साफ़ दिखने लगता है, जिससे की कामदेव रस का सेवन उनके लिए और अधिक उपयोगी साबित होता है |

कामदेव रस के फायदे

कामदेव रस का सेवन करने से शरीर में औज की मात्रा व् उसकी गुणवत्ता में काफी बेहतर सुधार हो जाता है | कामदेव रस का वर्णन व् निर्देशन मुख्यतः वाजीकरण व रसायन प्रकरणों अध्यायों में सभी प्रमुख संहिताओ में आसानी से मिल जाता है | कामदेव रस के फायदे जानकर हर व्यक्ति इसका सेवन करने की लालसा रखता है |

घटक द्रव्य

स्वर्ण भस्म – 1 gm

शुद्ध शिलाजीत – 10 gm
सिद्ध मकरध्वज स्पेशल – 10 gm
बंग भस्म – 10 gm
अभ्रक भस्म 100 पुटी – 10 gm

भीमसेनी कपूर – 10 gm
जायफल – 10 gm

अश्वगंधा सत्व – 10 gm

शुद्ध कश्मीरी केशर – 10 gm

सफेद मिर्च – 10 gm
लौंग – 10 gm
इलायची – 6 gm


पतंजली कामदेव रस बनाने की विधि

सभी घटक द्रव्यों को खरल या मिक्सी में डालकर अच्छे से बारीक़ पाउडर बना ले | भृंगराज स्वरस की भावना देकर 250-250 मिग्रा की गोलियाँ बना कर रख ले | सुबह श्याम एक-एक गोली बनाकर सेवन  चिकित्सक के द्वारा निर्धारित किये गये अनुपान के साथ करे |

कामदेव रस के फायदे

कामदेव रस अपने नाम से ही सब कुछ निर्धारित कर देता है की इसके सेवन से काम देव के जैसी शक्ति मनुष्य में आने लगती है जिसका कारण इसके द्वारा सभी धातुओ का पोषण होना होता है |

  • सप्त धातुओ के पोषण में अत्यंत लाभदायक परिणाम देने वाला है |
  • कामदेव रस के सेवन से पुरुषो में वीर्य सम्बन्धी व् महिलाओ में मासिकधर्म से सम्बन्धित समस्याओ का समाधान हो जाता है |
  •  धात गिरना
  • शीघ्रपतन की समस्या से छुटकारा दिलाने में कामदेव रस के फायदे अद्भुत् है |
  • स्तम्भन (समय की कमी) क्षमता की कमजोरी | जिन लोगो को शीघ्रपतन की समस्या रहती है उनके लिए कामदेव रस के फायदे अत्यंत शीघ्र गामी है |
  • प्रमेह में लाभकारी |
  • हस्थमैथुन से आई कमजोरी के निवारणार्थ |
  • स्वप्नदोष में श्रेष्ठ परिणाम दायक – जिन लोगो को स्वप्न दोष की समस्या रहती है उनके लिए कामदेव रस अत्यंत फायदेमंद है |
  • सम्भोग की इच्छा होने पर भी लिंग में उत्तेजना की कमी बनी रहना |
  • महिलाओ में प्रदर रोगों से उत्पन्न हुई शारिरिक कमजोरी को मिटाने में लाभकारी |
  • बढती उम्र से आयी सेक्स दुर्बलता में प्रभावशाली |
  • कामवासना में दिलचस्पी नही होने में उत्तेजना वर्द्धक का कार्य करता है |
  • याददास्त की कमजोरी में कामदेव रस है फायदेमंद |
  • अत्यधिक कामवासना से या अधिक सम्भोग करने के बाद उत्पन्न हुई शारिरिक व् मानसिक कमजोरी में लाभदायक |
  • पाचन संस्थान की सभी समस्याओ में लाभकारी |
  • स्वस्थ व्यक्ति के कामदेव रस का सेवन करने से रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हुए खांसी , जुकाम, याददास्त की कमजोरी , कैल्शियम की कमी , विटामिन्स की कमी , रक्त की कमी और रक्त शोधन में लाभकारी साबित होता है |
  • किसी भी प्रकार के प्रमेह से उत्पन्न उपद्र्व्यो को शीघ्र समाप्त करता है |
  • स्टेमिना के कमजोर हो जाने से उत्पन हुए कमर दर्द में अत्यंत प्रभावशाली |
    अनुपान

अनुपान अर्थात जिस द्रव्य के साथ कामदेव रस का सेवन करना है – जैसे पानी, दूध, शहद, अदरक के रस आदि के साथ चिकित्सक के परामर्श के उपरांत ही सेवन करे |

सावधानिया

चिकित्सक के परामर्श के बाद ही कामदेव रस का उपयोग करे | क्योकि आपकी प्रकृति के आधार पर चिकित्सक आपकी मात्रा व् अनुपान का निर्धारण करने के बाद ही आपको निर्देशित करेगा जो की आपके द्वारा सेवन करने पर अच्छे से फलीभूत होकर आपको अधिक लाभदायक सिद्ध होगी |

विशेष- आयुर्वेद रसोषधियो का सेवन चिकित्सक से परामर्श के बाद ही करे |

अधिक मात्रा में सेवन करने पर उपद्र्व्य होने का अंदेशा रहता है |

यदि आपको हमारा यह लेख पसंद आया हो तो कृपया शेयर जरूर करे |

धन्यवाद !

2 thoughts on “कामदेव रस (ओजवर्द्धक वटी ) – वाजीकरण व रसायन वटी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *