ल्युकोड्रिंक किट है ल्यूकोरिया ( सफेद पानी ) की दवा टेबलेट/कैप्सूल

ल्युकोड्रिंक किट के फायदे

जाने सफेद पानी की दवा टेबलेट कैप्सूल

श्री दयाल हर्बल द्वारा निर्मित ल्युकोड्रिंक किट (Leuko drink Kit in hindi) के द्वारा पुराने से पुराने ल्यूकोरिया/सफेद पानी का इलाज सफलता पूर्वक हो रहा है | इसका सेवन प्रारम्भ करने के पहले ही दिन से लिकोरिया (सफेद पानी) की समस्या में लाभ महसूस होने लगता है |

ल्युकोड्रिंक किट (Leuko drink Kit in hindi) का शीघ्र परिणाम इस लिए मिलता है क्योकि इसमे उपयोग में ली जाने वाली सभी औषधियों को आर्गेनिक कलेक्ट करवा कर उनका एक्सट्रेक्ट निकाल कर तैयार किया जाता है |

ल्युकोड्रिंक किट के फायदे

जैसा की आप सभी लोग जानते भी हो की किसी भी दवाई के घटक द्रव्य जितने शुद्ध होंगे उसके परिणाम उतने ही बेहतर होंगे | यही कारण है की श्री दयाल हर्बल द्वारा तैयार किये जाने वाला ल्युकोड्रिंक किट का परिणाम इसका सेवन प्रारम्भ करने के अगले ही दिन से देखने को मिल जाता है | सफेद पानी की आयुर्वेदिक दवा कैप्सूल है ल्युकोड्रिंक कैप्सूल |

ल्युकोड्रिंक के घटक द्रव्य

एस डी हर्बल द्वारा निर्मित ल्युकोड्रिंक (Leuko drink Kit in hindi) में महिलाओ में होने वाली सफेद पानी (ल्यूकोरिया) की समस्या से निज़ात दिलाने वाली महत्वपूर्ण औषधियों को सम्मिलित किया गया है जिनमे नागकेशर

लोध्र

अशोक

प्रदरान्तक लौह, जिनसेंग

प्रवाल पिष्टी जैसे 11 महत्वपूर्ण हर्बल औषधियों का प्रयोग किया जाता है |

ल्यूकोरिया की आयुर्वेदिक दवा के रूप में श्री दयाल हर्बल का ल्युको ड्रिंक ही क्यों ?

ल्युको ड्रिंक कैप्सूल्स में उपयोग लिए गये घटक द्रव्यों के शुद्ध एक्सट्रेक्ट का उपयोग किया जाता है | शुद्ध एक्सट्रेक्ट का उपयोग करने से ल्यूकोरिया जैसी भयंकर समस्या में ल्युकोड्रिंक किट (Leuko drink Kit in hindi) का फायदा बहुत ही कम समय में देखने को मिलता है | यह दवा सैकड़ो महिलाओ पर परीक्षित करने के बाद इसे मूल स्वरूप दिया गया है | अनेको आयुर्वेदाचार्यो द्वारा इसको सफल घोषित किया जा चूका है |

एस डी ल्युको ड्रिंक किट के फायदे Benefits of Leuko drink Kit in hindi)

ल्यूकोरिया के लिए बेहद फायदेमंद

इसका निर्माण खासकर ल्यूकोरिया के लिए किया गया है | इसमे उपयोग में लिए गये घटक द्रव्य जैसे- लोध्र, नागकेशर, चोबचिनी आदि हेर्ब्स ल्यूकोरिया के सभी प्रकारों में फायदेमंद है |

रक्तप्रदर में ल्युको ड्रिंक के फायदे

जिन महिलाओ को मासिकधर्म की बार बार पुनरावर्ती होती है या यु कहे जिन लेडीज को पीरियड्स काफी दिनों तक चलता रहता है या हर 15 दिन में ही पीरियड्स आ जाते है उनके लिए बेहद फायदेमंद है ल्युको ड्रिंक किट |

महिलाओ की शारीरिक कमजोरी को दूर करने में ल्युको ड्रिंक के फायदे

भागदौड़ भरी जिन्दगी में शारीरिक कमजोरी का होना स्वाभाविक है | ल्युको ड्रिंक किट में उपयोग लिये गये घटक द्रव्य जैसे अश्वगंधा, जिनसेंग, शतावरी, गोखरू आदि शारीरिक कमजोरी को दूर करने में फायदेमंद है 

यहाँ से खरीदिये ल्यूकोड्रिंक किट online घर बैठे मंगवाएं

ल्युकोड्रिंक किट के फायदे
ल्युकोड्रिंक किट के फायदे सफेद पानी की दवा टेबलेट

पाइल्स ( बवासीर) में ल्युको ड्रिंक के फायदे

जिन लोगो को गरिष्ठ खाना या तला भुना खाने की वजह से पाइल्स की समस्या हो उनके लिए भी ल्युकोड्रिंक का सेवन करना फायदेमंद साबित होता है |

ल्युको ड्रिंक शरीर की बढ़ी हुई गर्मी को करता है शांत

जो लोग पेट की गर्मी या शरीर की उष्णता की समस्या से परेशान रहते है उनके शरीर की गर्मी को कम करने के लिए यह उत्तम हर्बल औषधि है |

एसडी ल्युको ड्रिंक सेवन करने का सही तरीका

श्री दयाल हर्बल की ल्युको ड्रिंक किट में आने वाले प्रोटीन पाउडर को रोज सुबह एक गिलास दूध में एक चम्मच प्रोटीन पाउडर डालकर एक केले/आम/पपीता आदि किसी भी उपलब्धता और स्वादानुसार एक फल के साथ मिक्सी में डालकर शेक बना के सेवन करे |

एसडी ल्युकोड्रिंक किट के अंदर दो तरह के कैप्सूल्स आते है जिनमे से एक ल्युकोड्रिंक कैप्सूल-1 को ओपन करके 150 मिली पानी में मिला ले | इसके बाद ये अच्छी तरह से पानी में घुल जाने पर ल्युकोड्रिंक कैप्सूल-2 को इस तैयार किये हुए ल्युकोड्रिंक कैप्सूल-1 के साथ ले |

ल्युकोड्रिंक कैप्सूल-2 शाम को चावल के धोवन या शीशम के ताजा पत्तो के रस के साथ लेने से दुसरे से तीसरे दिन से ही आपको ल्यूकोरिया की समस्या में फायदा दिखने लगेगा |

श्री दयाल हर्बल की ल्युकोड्रिंक किट के नुकसान

इस हर्बल मेडिसिन में उपयोग में लिए गये किसी भी हेर्ब्स का कोई साइड इफ़ेक्ट नही देखे गये है | इस लिए ल्युकोड्रिंक किट एक सुरक्षित हर्बल मेडिसिन है |

लिकोरिया से सम्बंधित पूछे जाने वाले प्रश्न

सफेद पानी कब निकलता है ?

मासिकधर्म प्रारम्भ होने के कुछ दिन पहले या ओवोलेसं ovalationके समय एस्ट्रोजन हार्मोन की मात्रा बढ़ जाती है | एस्ट्रोजन की मात्रा बढ़ने से योनी मार्ग से सफेद पानी काफी बार अधिक मात्रा में निकलने लगता है

सफेद पानी के लक्षण क्या है ?

योनिमार्ग से निकलने वाले सफेद पानी को आयुर्वेद में श्वेत प्रदर के नाम से वर्णित किया गया है | यह कम उम्र की लड़कियों और महिलाओ में होने वाली आम बीमारी है | इसमे योनिमार्ग से सफेद रंग का गाढ़ा दुर्गन्धयुक्त सफेद रंग का स्त्राव निकलता है | यह समस्या यदि लम्बे समय तक बनी रहती है तो इन्फेक्शन होने पर स्त्राव का रंग पीला, हल्का नीला या हल्का लाल रंग का, बदबूदार और चिपचिपा स्त्राव आने लगता है | यहा पढ़े श्वेत प्रदर ( white discharge ) कारण लक्षण प्रकार, बचाव व इलाज

प्रेग्नेंट होने/ प्रेगनेंसी के शुरूआती दिनों में सफेद पानी आता है क्या ?

प्रेगनेंसी में एस्ट्रोजन का लेवल सामान्य से बढ़ जाता है जिसके परिणामस्वरूप पेल्विक के आसपास के क्षेत्र में रक्त का प्रवाह बढ़ जाता है | बढ़े हुए रक्त प्रवाह से म्यूकस झिल्लियाँ उत्तेजित हो जाती है जिसके परिणामस्वरूप सफेद पानी या वैजाइनल डिस्चार्ज अधिक होता है |

पीरियड्स के कितने दिन पहले वाइट डिस्चार्ज होता है ?

मासिकधर्म आने के कुछ दिन पहले योनिमार्ग से जो सफेद पानी या वाइट डिस्चार्ज निकलता है वो मृत कोशिकाओ और द्रव्य से युक्त होता है | मासिकधर्म से पहले सफेद पानी आने से यदि आपको जलन खुजली आदि की समस्या नही होती है तो यह सामान्य होती है | यदि इस स्त्राव से योनिमार्ग में जलन या खुजली होती है तो इसका इलाज करवाना जरुरी है |

लिकोरिया/ ल्यूकोरिया क्यों होता है ?

लम्बे समय तक स्ट्रेस में रहने से ल्यूकोरिया की बीमारी का होना आम बात है | खराब जीवनशैली, खान-पान का ध्यान नही रखना, जननांगो की सफाई नही रखना आदि कारणों से ल्यूकोरिया की बीमारी हो जाती है |

ब्राउन डिस्चार्ज क्यों होता है ?

मासिकधर्म की अनियमितता के कारण ब्राउन डिस्चार्ज का होना आम बात है | लेकिन यदि सामान्य दिनों में भी यदि ब्राउन रंग का डिस्चार्ज होता है तो वह यूटरस कैंसर या सर्वाइकल कैंसर का संकेत हो सकता है |

ल्यूकोरिया / वाइट डिस्चार्ज कितने प्रकार का होता है ?

योनिमार्ग से निकलने वाले सफेद रंग के द्रव के आयुर्वेद शास्त्रों में 4 प्रकार बताये गये है | जो इस प्रकार है – ल्यूकोरिया के चार प्रकार होते है –
1.    गर्भाशयज श्वेत प्रदर :- यहाँ पढ़े – गर्भाशयज श्वेत प्रदर
2.    योनिज श्वेत प्रदर
3.    ग्रैवीय श्वेतप्रदर :-
4.    भगज श्वेतप्रदर

ल्यूकोरिया में क्या नही खाना चाहिए ?

फास्टफूड, गरिष्ट आहार, देर से पचने वाले भोज्य पदार्थ, खट्टे पदार्थ, अचार, शराब, पित्त वर्धक आहार, लहसुन, सिरका जैसे खाद्य पदार्थो को अपने खाने में शामिल करने से बचना चाहिए |

सफेद पानी की रामबाण दवा कोनसी है ?

कोई भी दवा किसी बीमारी की रामबाण दवा नही होती है रोगी विशेष के आधार पर औषधि के पथ्य का निर्धारण करने से उसी औषधि का परिणाम बेहतर हो जाता है |

सफेद पानी की दवा टेबलेट / कैप्सूल

सफेद पानी की दवा टेबलेट / कैप्सूल के बारे में हमने पिछले आर्टिकल में विस्तार से चर्चा की थी | यहाँ पढ़े – सफेद पानी की दवा टेबलेट

अपने किसी भी प्रश्न के लिए कमेन्ट बॉक्स में अपना प्रश्न पूछ सकती है ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *