व्हीटग्रास जूस के फायदे | ज्वारे का रस के फायदे wheatgras juice ke fayde in hindi

व्हीट ग्रास जूस के फायदे

व्हीटग्रास जूस | ज्वारे का रस ( wheat grass juice in hindi )

गेंहू के ज्वारे को ग्रीन ब्लड कहा जाता है क्योकि व्हीटग्रास जूस ब्लड बनाने के लिए श्रेष्ठ माना गया है साथ ही गेंहू के ज्वारे व रक्त का ph वैल्यू 7.4 होता है | दोनों का एक समान ph होने से ज्वारे का रस रक्त में जल्द ही अभिशोषण हो जाता है |

व्हीट ग्रास का सबसे उपयोगी तत्व क्लोरोफिल होता है जो की क्लोरोप्लास्ट नामक विशेष कोषों में विधमान होता है | क्लोरोप्लास्ट का निर्माण सूर्य की किरणों से होता है | इसके अतिरिक्त गेंहू के ज्वारे में भरपूर मात्रा में कैल्शियम, मिनरल्स, एंटी ओक्सिडेंट, विटामिन b 12 प्रचुर मात्रा में पाया जाता है | इस आर्टिकल में हम जानेंगे व्हीटग्रास रस के फायदे नुकसान व सेवन विधि –

ज्वारे के रस के फायदे | ब्लैक व्हीटग्रास जूस के फायदे (benefits of black wheat grass juice in hindi)

गेंहू के ज्वारे का रस ह्रदय रोग, कोलेस्ट्रोल, कैंसर, मोटापा, त्वचा सम्बन्धी विकार, खून की कमी, पाचन सम्बन्धी विकार, एलर्जी, आँखों से सम्बन्धित रोग, कोलेस्ट्रोल, शरीर में सुजन, थायरोइड, आर्थराइटिस, उच्च रक्तचाप, किडनी सम्बन्धी विकार जैसी समस्याओ के लिए बेहद ही फायदेमंद साबित होता है | आगे हम व्हीटग्रास जूस के फायदों के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे –

कैंसर से बचाव व उपचार में व्हीटग्रास जूस के फायदे

काले गेंहू के ज्वारे के रस में एंथोसाइनिंन नामक महत्वपूर्ण साल्ट मौजूद होता है | जो ब्लूबेरी की भांति शरीर में बनने वाले फ्री रेडिकल्स को शरीर से बहार निकालने के लिए जिम्मेदार होता है | काले गेंहू के ज्वारे के रस सामान्य गेंहू की अपेक्षा अधिक पोष्टिक होने से ये रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में भी लाभदायक होता है | बड़ी हुई रोगप्रतिरोधक क्षमता कैंसर कोशिकाओं के निर्माण को रोकने में सहायक सिद्ध होती है | कैंसर रोगी के लिए इसे और अधिक फायदेमंद बनाने के लिए इसमे करक्युमिन, पपीते के पत्ते का पाउडर, हारसिंगार का पाउडर व 15-20 मिली गोमूत्र मिलकर उपयोग करने से अधिक लाभदायक होता है |

मोटापा में ज्वारे के रस के फायदे (motape me jware ke ras ke fayde in hindi )

काले गेंहू के ज्वारे का रस व्हीटग्रास जूस शरीर में जमा हुई अतिरिक्त वसा को कम करने में अत्यंत लाभदायक होते है | black wheat grass पाउडर को प्रातः काल गुनगुने पानी में मिलाकर सेवन करने से भी आपको उतना ही लाभ होगा जितना जूस लेने से होता है | कोलेस्ट्रोल का स्तर कम होने का मतलब है की आपके शरीर में अतिरिक्त वसा का जमाव नही हो प् रहा है और अतिरिक्त वसा का जमाव ही यदि शरीर में नही होगा तो आप मोटापे से बचे रहोगे | इसमे कैलोरी की मात्रा बहुत कम व फाइबर की मात्रा अधिक होने से यह वजन घटाने के लिए बेहद लाभदायक रहता है |

डायबिटीज में ज्वारे का रस पीने के फायदे ( jware ke ras Pine ke fayde in hindi )

काले गेंहू के ज्वारे का रस का सेवन आपको संभवतः डायबिटीज से बचाने में सफल होगा क्योकि 7 साल की लम्बी रिसर्च के बाद यह साबित हुआ है की काले गेंहू के ज्वारे ब्लैक व्हीटग्रास रस में प्रचुर मात्रा में एंटी ओक्सिडेंट मोजूद होते है | जो काफी हद तक आपको डायबिटीज से बचाने में उपयोगी साबित होते है |

कोलेस्ट्रोल व हृदय रोग से बचाता है black wheat grass Powder

शरीर में बनने वाले फ्री रेडिकल्स को शरीर से बहार निकालने में काले गेंहू के ज्वारे अत्यंत फायदेमंद होते है क्योकि काले गेंहू में विधमान एनथोसाइनिंन बढ़े हुए कोलेस्ट्रोल के स्तर को कम करने में लाभदायक होता है | जब कोलेस्ट्रोल का स्तर सामान्य होगा तो हृदय की धमनियों पर अतिरिक्त दबाव नही पड़ेगा जिसके परिणामस्वरूप आप हृदय रोग से आप बचे रहोगे |

अन्य रोग जिनमे black wheat grass powder काफी फायदेमंद साबित होता है –

  • रक्तचाप
  • थायरोइड
  • डेंगू में प्लेटलेट्स बढ़ाने में
  • दमा
  • एलर्जी
  • चर्म रोग
  • किडनी
  • पेट सम्बन्धी रोग
  • एनीमिया
  • सुजन

काला गेंहू के ज्वारे का पाउडर है सबसे बेस्ट सुपरफ़ूड

काले गेंहू के ज्वारे के जूस (black wheat grass juice in hindi ), ब्लैक व्हीटग्रास रस में एंथोसाइनिंन, पिगमेंट, जिंक, एंटी ओक्सिडेंट की मात्रा सामान्य गेंहू से अधिक पाई जाती है | जिसके कारण यह डायबीटीज, कैंसर, मोटापा, कोलेस्ट्रोल जैसी बीमारियों से बचाने में अत्यंत लाभदायक सिद्ध हो सकता है | साथ ही काले गेंहू के ज्वारे में 13 प्रकार के विटामिन्स, प्रोटीन,फाइबर और एंटी ओक्सिडेंट के साथ ही विटामिन B-12, सेलिनियम, खनिज लवण व सभी 20 एमिनो एसिड मोजूद होते है |

सामान्य व्हीटग्रास की अपेक्षा काले व्हीटग्रास जूस (black wheat grass powder) में एनथोसाइनिंन की मात्रा काफी अधिक पाई जाती है वहीं काले गेंहू में पिगमेंट की मात्रा 40- 140 पीपीएम तक होती है जो की सामान्य गेंहू में मात्र 15 पीपीएम ही होती है | इसमे एंटी ओक्सिडेंट व फाइबर की मात्रा भी अधिक पाई जाती है जो शरीर में एकत्रित हुए टोक्सिंस को शरीर से बहार निकालने में मददगार साबित होते है |

ब्लैक व्हीटग्रास पाउडर का उपयोग कैसे करे ( black wheat grass powder uses in hindi )

व्हीटग्रास पाउडर का उपयोग करने से पहले ये जानले की जो व्हीटग्रास पाउडर आप खरीद कर लाये हो वो उच्च गुणवत्ता युक्त है या नही यदि गेंहू के ज्वारे से आप अधिक स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करना चाहते हो तो आप काले गेंहू का पाउडर black wheat grass powder in hindi का चयन करे | इसके सेवन से आप सामान्य गेंहू के पाउडर की अपेक्षा तीन गुना अधिक फायदेमंद रहता है |

इस लिए प्रयास करे की black wheat grass powder का सेवन करे जिससे अधिक लाभ प्राप्त ले सको | काले गेंहू या ब्लैक व्हीटग्रास पाउडर का उपयोग करने के लिए एक गिलास गुनगुने पानी में एक चम्मच लगभग 3-5 ग्राम व्हीटग्रास का पाउडर अच्छे से मिलाने के बाद घूंट-घूंट करके इसका सेवन करे | इस तैयार किये हुए जूस में ताजा पालक से मिलता जुलता स्वाद का सुखद अहसास होता है |

व्हीट ग्रास जूस पीने के नुकसान ( side effects of wheat grass juice in hindi )

प्रत्येक व्यक्ति की प्रकृति अलग-अलग होती है ऐसे में जरुरी नही की प्रत्येक व्यक्ति हो हर चीज सकारात्मक प्रभाव दे कुछ लोगो को नकारात्मक प्रभाव भी हो सकते है ऐसे में व्हीटग्रास जूस (black wheat grass juice in hindi ) के नुकसान भी हो सकते है –

जिस व्यक्ति को गेंहू से सम्बंधित एलर्जी है उस व्यक्ति को इसका सेवन नही करना चाहिए | काले गेंहू के ज्वारे के रस (black wheat grass juice in hindi ) के सेवन के बाद बैचैनी की समस्या कुछ समय के लिए हो सकती है | किसी किसी व्यक्ति को प्रारम्भ में डायरिया या मितली की शिकायत हो सकती है | किन्तु कुछ दिनों के बाद यह ठीक भी हो सकती है | काले गेंहू में फाइबर की प्रचुरता के कारण काफी लोगो को यह शूट नही करता है किन्तु कम मात्रा में नियमित सेवन करने से यह शिकायत ठीक हो जाती है |

ज्वारे का रस या व्हीटग्रास जूस से सम्बंधित पूछे जाने वाले प्रश्न

व्हीटग्रास जूस पीने से क्या होता है

व्हीटग्रास जूस पीने से बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रोल कम होता है | जिससे ह्रदयघात का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है | बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रोल स्ट्रोक व दिल की बीमारियों के लिए जिम्मेदार माना जाता है |

गेंहू के ज्वारे का रस कितने दिन पीना चाहिए

गेंहू के ज्वारे का रस सप्ताह में 4-5 दिन पीना सेहत के हिसाब से उत्तम माना गया है | किसी भी स्वास्थ्य रक्षक आहार को नियमित सेवन ना करके बीच-बीच में कुछ बदलाव करते रहने से हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहतर होता है |

व्हीटग्रास की तासीर क्या होती है ?

व्हीटग्रास की तासीर ठंडी (शीत) होती है इसीलिए व्हीटग्रास जूस का सेवन सर्दियों की बजाय गर्मियों में अधिक किया जाता है |

गेंहू के ज्वारे के रस का सेवन नियमित किया जा सकता है ?

जी, बिल्कुल किया जा सकता है लेकिन बीच बीच में कुछ बदलाव करते रहे जैसे कभी अर्जुन छाल का काढ़ा, कभी गिलोय का रस तो कभी अन्य जूस को अपनी रस चिकित्सा में शामिल करते रहने से आप इसका नियमित सेवन कर सकते हो | किन्तु लगातार केवल व्हीटग्रास जूस का सेवन नुकसानदायक भी हो सकता है |

आर्गेनिक काले गेंहू के पाउडर black wheat grass powder मंगवाने के लिए आप हमे मेल कर सकते है | हमारे फार्म हाउस पर तैयार किया हुआ सुद्ध ऑर्गनिक काले गेंहू घास black wheat grass powder तैयार करके कोरियर द्वारा आपके पते पर भिजवा दिया जायेगा | आप स्वम् फार्म हाउस पर आकर भी प्राप्त कर सकते हो |

मेल करे – [email protected]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *